a
हरियाणा का सर्वाधिक लोकप्रिय संध्या दैनिक
Homeदेशकृषि बिलों के खिलाफ सड़कों पर अन्नदाता, तेजस्वी ने निकाली ट्रैक्टर रैली

कृषि बिलों के खिलाफ सड़कों पर अन्नदाता, तेजस्वी ने निकाली ट्रैक्टर रैली

कृषि बिलों के खिलाफ सड़कों पर अन्नदाता, तेजस्वी ने निकाली ट्रैक्टर रैली

नई दिल्ली।संसद में हाल ही में पास हुए कृषि से जुड़े तीन विधेयकों का विरोध अब सड़कों पर जोर पकड़ने लगा है। कृषि बिलों के खिलाफ किसान संगठनों ने आज यानी शुक्रवार (25 सितंबर) को भारत बंद बुलाया है। किसानों के इस भारत बंद में पंजाब, हरियाणा, यूपी, महाराष्ट्र समेत देश के अन्य राज्यों के किसान शामिल हो रहे हैं। भारत बंद के लिए 31 किसान संगठनों ने हाथ मिलाया है। इतना ही नहीं, इस भारत बंद को कांग्रेस, अकाली दल समेत कई विपक्षी दलों का समर्थन हासिल है। भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) समेत कई संगठनों ने कहा है कि उन्होंने विधेयकों के खिलाफ कुछ किसान संगठनों द्वारा आहूत राष्ट्रव्यापी हड़ताल का समर्थन किया है। माना जा रहा है कि पंजाब, हरियाणा से लेकर यूपी-महाराष्ट्र तक के किसान आज इस भारत बंद में शामिल हो रहे हैं।
सरकार ने अपने फंडदाताओं के ​जरिए अन्नदाताओं को कठपु​तली बनाने का काम किया है, ये पूरी तरह किसान विरोधी बिल हैं। इस सरकार ने ऐसा कोई भी सेक्टर छोड़ने का काम नहीं किया जिसका इन्होंने निजीकरण न किया हो। MSP का कहीं भी विधेयक में जिक्र नहीं है: तेजस्वी यादव, राष्ट्रीय जनता दल
कांग्रेस और विपक्ष ने आज़ादी के बाद किसानों को ठगने का काम किया: बिहार के कृषि मंत्री

कांग्रेस सहित विपक्ष के लोगों ने आज़ादी के बाद किसानों को ठगने का काम किया और PM जो कृषि विधेयक लाए हैं ये किसानों के हित में हैं। कांग्रेस ने घोषणा पत्र में ऐलान किया था कि APMC एक्ट को हटाएंगे और जब हम हटा रहे हैं तो उसका बेवजह विरोध कर रहे हैं:प्रेम कुमार,बिहार के कृषि मंत्री
कर्नाटक-तमिलनाडु राजमार्ग पर प्रदर्शन

कर्नाटक राज्य किसान संघ के सदस्य संसद में पारित कृषि बिलों के खिलाफ कर्नाटक-तमिलनाडु राजमार्ग पर बोम्मनहल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। हालांकि, यहां पर पुलिस की तैनाती है।
किसानों ने बंद किया अमृतसर-दिल्ली मार्ग

कृषि बिलों के खिलाफ आज भारत बंद के समर्थन में किसान सड़कों पर उतर गए हैं। पंजाब में भारतीय किसान यूनियन और रिवॉल्यूशनरी मार्क्सवादी पार्टी ऑफ़ इंडिया के तत्वावधान में किसानों ने कृषि बिलों के विरोध में जालंधर में फिल्लौर के पास अमृतसर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग को अवरुद्ध कर दिया।
अमृतसर में पुलिस तैनात

पंजाब: संसद में पारित कृषि बिलों के खिलाफ आज किसानों के प्रदर्शन को लेकर अमृतसर शहर में पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया है। एसीपी ने बताया कि, “पूरे शहर में हर चौराहे और लेवल क्रॉसिंग पर सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं ताकि कोई अप्रिय घटना न हो।”
पंजाब में रेल रोको आंदोलन कर रहे किसान

पंजाब: कृषि बिलों के खिलाफ किसान मजदूर संघर्ष कमेटी रेल रोको आंदोलन कर रही है। ये किसान कल से ही प्रदर्शन कर रहे हैं। इनका रेल रोको आंदोलन 26 सितंबर तक चलेगा।
13 जोड़ी ट्रेनें शॉर्ट टर्मिनेटेड

कृषि बिलों के विरोध में प्रदर्शन के मद्देनजर एहतियात के तौर पर 13 जोड़ी ट्रेनों को शॉर्ट टर्मिनेटेड कर दिया गया है। हरियाणा में अंबाला रेलवे स्टेशन के निदेशक बीएस गिल ने कहा कि हम प्रदर्शन को देखते हुए पंजाब जाने वालीं रेल मार्गों से बच रहे हैं।
भारत बंद को बिहार में राजद का साथ

कृषि बिलों के खिलाफ बिहार में भी आज भारत बंद का ऐलान किया गया है। किसान यूनियन बिहार में भी चक्का जाम करेंगे और सरकार के इन बिलों के खिलाफ अपना प्रदर्शन करेंगे। इस भारत बंद को राजद का भी साथ मिला है। पटना में आज सुबह 9 बजे नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव अपने आवास से किसानों और समर्थकों के साथ विरोध प्रदर्शन करते हुए पार्टी कार्यालय जाएंगे।
किसान यूनियनों का दुकानदारों से अपील

भारतीय किसान यूनियन (एकता उगराहां) महासचिव सुखबीर सिंह ने हड़ताल के समर्थन में वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों, दुकानदारों से अपनी दुकानों बंद रखने की अपील की है। पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने भी लोगों से किसानों का समर्थन करने और हड़ताल को सफल बनाने का अनुरोध किया है। मुख्य विपक्षी आम आदमी पार्टी पहले ही अपना समर्थन दे चुकी है जबकि शिरोमणि अकाली दल ने सड़क बंद करने की घोषणा की है।

किसानों के साथ अमरिंदर सरकार

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रदर्शन के दौरान किसानों से कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने और कोरोना वायरस से जुड़े सभी नियमों का पालन करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार विधेयकों के खिलाफ लड़ाई में पूरी तरह किसानों के साथ है और धारा 144 के उल्लंघन के लिए प्राथमिकी दर्ज नहीं की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हड़ताल के दौरान कानून-व्यवस्था की दिक्कतें पैदा नहीं करनी चाहिए। उन्होंने किसानों से यह सुनिश्चित करने की अपील की है कि नागरिकों को किसी तरह की दिक्कतें नहीं हो और आंदोलन के दौरान जान-माल को किसी भी प्रकार का खतरा नहीं होना चाहिए।

पंजाब में आंदोलन का ट्रेनों पर असर

रेलवे ने आंदोलन के मद्देनजर 26 ट्रेनों का परिचालय 26 सितंबर तक रद्द कर दिया है। जिन ट्रेनों को निलंबित कर दिया गया है, वे हैं-
गोल्डेन टेम्पल मेल (अमृतसर-मुंबई मध्य), जन शताब्दी एक्सप्रेस (हरिद्वार-अमृतसर), नई दिल्ली-जम्मू तवी, कर्मभूमि (अमृतसर-न्यू जलपाइगुड़ी), सचखंड एक्सप्रेस (नांदेड़-अमृतसर) और शहीद एक्सप्रेस (अमृतसर-जयनगर) निलंबित ट्रेनों की सूची में शामिल हैं।
पंजाब में रेल रोको आंदोलन

पंजाब में कृषि विधेयकों के खिलाफ किसानों का तीन दिवसीय रेल रोको आंदोलन जारी है। पंजाब में गुरुवार को किसानों ने रेल की पटरियों पर बैठकर प्रदर्शन किया। गुरुवार यानी 24 अक्टूबर से 26 अक्टूबर तक यह रेल रोको आंदोलन चलेगा। इस आंदोलन के मद्देनजर फिरोजपुर रेल संभाग ने विशेष ट्रेनों के परिचालन को रोक दिया है।

देशभर के किसानों का समर्थन

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) समेत कई संगठनों ने कहा है कि उन्होंने विधेयकों के खिलाफ कुछ किसान संगठनों द्वारा आहूत राष्ट्रव्यापी हड़ताल का समर्थन किया है। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और यूपी के किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि चक्का जाम में पंजाब, हरियाणा, यूपी, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, कर्नाटक समेत पूरे देश के किसान संगठन एकजुट होंगे।

Author

ramatimeshr@gmail.com

No Comments

Leave A Comment