a
हरियाणा का सर्वाधिक लोकप्रिय संध्या दैनिक
Homeखेलसायना नेहवाल और के श्रीकांत का ओलपिंक में खेलना मुश्किल

सायना नेहवाल और के श्रीकांत का ओलपिंक में खेलना मुश्किल

सायना नेहवाल और के श्रीकांत का ओलपिंक में खेलना मुश्किल

लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता सायना नेहवाल और पुरुष वर्ग के स्टार खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत की मलेशिया ओपन के जरिये ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने की उम्मीदें अधर में अटक गयी है क्योंकि मलेशिया सरकार ने कोविड-19 से जूझ रहे भारत से यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया। भारत सरकार हालांकि इसका हल निकालने के लिए मलेशिया से बात कर रही है। इंडियन ओपन (11 से 16 मई) के स्थगित होने के बाद सायना और श्रीकांत की टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने की उम्मीदें कुआलालंपुर (25 से 30 मई) और फिर सिंगापुर ओपन (एक से छह जून) पर टिकी है। भारत में कोविड-19 मामले के मद्देनजर मलेशिया और सिंगापुर ने 28 अप्रैल को भारत से आने वाली विमानों पर रोक लगा दी थी । भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) से जारी बयान में कहा गया, ” खेल मंत्रालय ने विदेश मंत्रालय की मदद से मलेशिया के अधिकारियों से भारतीय बैडमिंटन टीम को 25 से 30 मई तक होने वाले मलेशिया ओपन में भाग लेने के लिए मंजूरी देने की मांग की है”। उन्होंने आगे बताया कि भारत में कोविड-19 मामलों में बढ़ोतरी के कारण मलेशियाई सरकार ने वहां के भारतीय उच्चायोग को बताया कि फिलहाल टीम को यात्रा की मंजूरी नहीं दी जा सकती। टूर्नामेंट शुरू होने में अभी 19 दिन बाकी है और ऐसे में प्रतियोगिता में भाग लेने की संभावनाओं को नकारा नहीं जा सकता। यह 15 जून की समयसीमा तक ओलंपिक क्वालीफिकेशन के आखिरी टूर्नामेंटों में से एक है। इस टूर्नामेंट में देश के शीर्ष एकल और युगल खिलाड़ियों में शामिल पीवी सिंधु, सायनानेहवाल, किदांबी श्रीकांत, साई प्रणीत, सात्विक साईराज रंकीरेड्डी, चिराग शेट्टी, अश्विनी पोनप्पा और सिक्की रेड्डी को भाग लेना था। भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) ने कहा कि उसने अभी उम्मीदें नहीं छोड़ी है और इस मामले में विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) के जवाब का इंतजार कर रहा है। बीएआई के महासचिव अजय सिंघानिया ने पीटीआई-भाषा से कहा, ” मलेशिया के साथ-साथ सिंगापुर में भी अभी भारतीय नागरिकों के आने की अनुमति नहीं है। यह पहले से ही सबको पता है। यही कारण है कि हमने अपने कुछ खिलाड़ियों के ओलंपिक क्वालीफिकेशन के संबंध में इसे विशेष मामले के तौर पर लेने का अनुरोध करते हुए दोनों देशों को लिखा है।

Author

piyushsharma43043@gmail.com

No Comments

Leave A Comment